भारत में कोरोना संकट के बीच व्हाट्सएप और टिक टॉक को पीछे छोड़ टॉप पर पहुंचा Zoom

Zoom app

दुनिया भर में कोरोनावायरस के संकट ने लॉकडाउन के कारण लोगों को घर से काम करने के लिए मजबूर कर दिया है। सोफे पर बैठ कर आराम से घर से काम करने के साथ, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग भी ऑफिस में रहने का नया तरीका बन गया है। ऐसे संकट के समय में भारत में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के लिए ‘जूम ऐप (Zoom App)’ सफलता के शिखर पर पहुंच गया है।

यही नहीं, इस स्टार्टअप ने गूगल प्ले स्टोर पर डाउनलोड के मामले में व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम और यहां तक ​​लोकप्रिय टिकटॉक को भी पीछे छोड़ अब टॉप पर अपना स्थान बना लिया है। इस ऐप के बेसिक वर्जन के साथ, वीडियो कॉलिंग सुविधा में लगभग 100 लोग एक साथ शामिल हो सकते हैं।

इसके अलावा, ज़ूम एकमात्र ऐसा ऐप है जिसके माध्यम से 10 से अधिक लोग वीडियो कॉल कर सकते हैं। इन्हीं खासियतों की वजह से यह ऐप कंपनियों और काम करने वाले लोगों के बीच सबसे लोकप्रिय ऐप बन गया है। अब तक, जूम के 100 मिलियन से भी अधिक डाउनलोड हो चुके हैं, और यह आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं।

Zoom calling app

व्हाट्सएप के उपयोग में वृद्धि तो हुई है, लेकिन यह मैसेजिंग ऐप पांचवें स्थान पर चला गया है। जबकि, यह हमेशा टॉप 2 में अपनी जगह बनाये रखता था।

कोरोनोवायरस महामारी ने जूम ऐप को काफी लाभ पहुंचाया है, जिससे साप्ताहिक विज्ञापन इसे कोरोना संकट में अर्थव्यवस्था का राजा कहा जा रहा है। जैसा कि, लोग कुछ समय से घर से काम कर रहे हैं, इस समय में ‘जूम एप’ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए काम को आसान बना रहा है।

इस बीच, हाल ही में जूम कुछ सही कारणों के लिए समाचार में नहीं था क्योंकि यह दावा किया गया था कि इसका आईओएस एप्लीकेशन यूज़र्स के अनुमति के बिना फेसबुक को डेटा भेज रहा था। वास्तव में, यूज़र्स द्वारा अकाउंट नहीं होने के बावजूद डेटा भेजा गया था।

इस मामले में कंपनी की प्रतिक्रिया थी कि “ज़ूम अपने यूज़र्स की गोपनीयता को बहुत गंभीरता से लेता है। कंपनी ने कहा है कि, हमने अपने यूज़र्स को हमारे प्लेटफ़ॉर्म तक पहुँचने के लिए एक और सुविधाजनक तरीका प्रदान करने के लिए मूल रूप से फेसबुक एसडीके का उपयोग करके लॉगिन विथ फ़ेसबुक ’सुविधा को लागू किया। हालाँकि, हमें हाल ही में अवगत कराया गया था कि फेसबुक एसडीके अनावश्यक डिवाइस डेटा एकत्र कर रहा था।

Facebook Comments